प्रविष्ठियां

क्रिकेट रो कोड

'क्रिकेट रो कोड` राजस्थानी बाल कहानी संग्रह है। दुलाराम सहारण की इन बाल कहानियों में बच्चों के लिए काफी कुछ है। संग्रह में आदतां रो फळ, राजा री सूझ, क्रिकेट रो कोड, आकाश रो पछतावो, नकल रो नतीजो आदि कुल ५ कहानियां शामिल हैं। प्रस्तुत है शीर्षक कहानी-

क्रिकेट रो कोड

रमेश आपरो इस्कूल रो बस्तो खड्य़ो-खड़्यो ही बिस्तरां माथै पटक दियो। स्कूल री ड्रेस ही भोत ता`वळी सी खोली। दूजा गाभा फटाफट पैर्या अर इनै-बिनै तकायो। घरां सुनेड़ पड़ी ही। मम्मी तो दो घंटा पछै आसी अर पापा आथण रै पांच बज्यां पछै। मम्मी नगर संू दसेेक किलोमीटर अळगै गांव मांय मास्टरनी ही अर पापा नगर रै अेक ऑफिस मांय बाबू ।
रमेश इस्कूल सूं आंवतो ही रोजगो इयां ही ता`वळ मांय रैवै । आपरो बण ओ रूटीन बणाय राख्यो, फटाफट घरां जाय`र क्रिकेट मैदान मांय आय`र खेलणो। मम्मी रै आवण सूं पैलां-पैलां खेल`र पाछो आवणो। रमेश रै अबार जद इस्कूल दिनूंगै लागै तो मौज हुज्या। बा`रा-अेक बज्यां इस्कूल री छुट्टी हुवै। दोपारै मांय खेलण सूं रोकण रो ही रोळो कोनी रैवै। नीं तो पाळै मांय आफत। इस्कूल दस बज्यां लागै अर छुट्टी पांच बज्यां हुवै। पांच बज्यां तो पापा ही आ जावै।
रमेश जियां आयो हो उणां पगा ही क्रिकेट मैदान मांय पूग्यो। तावड़ै री लाय पड़ै पण कुण धारै ? क्रिकेट रो सुवाद तो हुवै ही जबरो। अणथकण रो अर रुचि बणायां राखण रो।
रमेश री भांत रा कीं और छो`रा मैदान मांय त्यार खड़्या हा। सगळा आप-आपरी जिगां पकड़ी अर सरू होग्यो क्रिकेट मैच। कठै चौका-छक्कां रो सुवाद तो कठै ही विकेटां रो सुवाद। सगळा पसीनै सूं हळाडोब हुय रैया। वै घंटा-दो घंटा मांय सगळो सुवाद लेवणो चावै।
आपरी बैंटिग अर बोलिंग पैली कर`र रमेश दड़ाछट घरां पूगै। ओ बीं रो रोजीनै रो काम। रमेश रै ता`वळ रैवै कै मम्मी पैला घरां नीं आ बड़ै। जे बो घरां नीं लादै तो कान खिंचाई हुज्या अर पापा नैं जे मम्मी बता देवै तो खाल खिचाई ही हुज्या। दोनूं दोपारां क्रिकेट खेलण सारू नटेड़ा।
रमेश आज ही घरां मम्मी सूं पैला आग्यो।
रमेश री मम्मी इस्कूल सूं आय`र रमेश रा घणां लाड कर्या। इस्कूल री पढाई री बातां बूझी। पढ़ायेड़ा पाठंा रा अणसमझ्या सवालां रा पड़ूत्तर बताया। कीं खा-प्याव`र रमेश नैं थोड़ी ताळ सोवण री कैयी अर खुद ही सोयगी।
रमेश नैं और कै चाहिजै हो ? बो आ ही तो तकावै हो। बोलबालो खड़्यो हुयो अर बिना खुड़का कर्यां चाल बहीर हुयो क्रिकेट मैदान कानी। अेकदम तावड़ै रै मंझ मांय।
घंटा दोय`क ओजूं खेल्यो अर पाछो ही चोर पगां सूं घरां आग्यो। मम्मी अजै ही नीेद मांय ही।
मम्मी उठी जद रमेश पसवाड़ै सूत्यो हो।
आथणगै पापा ऑफिस सूं आया तो रमेश नैं ओजूं लाड मिल्यो। इस्कूल री बातां बूझी अर रमेश नैं कीं चुटकला ही सुणाया। पण इब रमेश रै जी मांय जक कोनी ही। बो दो-तीन बार लेटरीन जाय`र आग्यो पण पेट ओजूूं ही कुरड़-कुरड़ करै हो। दस्तां री शिकायत हुग्यी।
बात मम्मी-पापा दोनूं ताड़ी तो रमेश नैं डागदर कनै लेय`र गया। डागदर रमेश नैं चैकअप कर्योे अर अस्पताळ मांय भरती हुवण री सलाह दी।
रमेश तीन-चार दिन अस्पताळ मांय रैयो। पण पूरी भांत ठीक को हुयो नीं। घरां आया पछै ही दिन मांय दो-तीन बार तो हळका दस्त लाग ही जावै। रमेश थाकल अर आखतो हुग्यो।
रमेश रा मम्मी-पापा उण री देखरेख रै कारण ऑफिस ही कोनी जा सक्या। पांच-छह दिनां री छुट्टी तो रमेश री खेचळ मांय लागगी। रमेश री इस्कूल ही खोटी हुयी।
रमेश आपरी हालत देख`र रूवाणो होग्यो। उण रै काना मांय डागदर रा अेक-अेक सबद गुंजै हा- ''घणै तावड़ियै मांय रैया दस्त, उल्टी आद सरू होयज्या है, कदै-कदै ताव ही आ ज्यावै। तावड़ै री मार घणी आकरी हुवै। टाबरां रै कंवळै सरीर खातर तो तावड़ो घणो सावचेती रो हुवै। टाबरां री निगै राखणी चाहिजै, उणा नैं बा`रनै नीं जावण देवणो चाहिजै।``
रमेश मम्मी कानी देख्यो। मम्मी ही रमेश नैं देखै ही। रमेश बैड ऊपरां सूं होळै सी`क खड्य़ो हुयो अर मम्मी रै गोडा मांय जा बड्य़ो अर बुसबुसांवतो सो बोल्यो- ''मम्मी! म्हैं ओजूं तावड़ै मांय क्रिकेट खेलण कोनी जावूं।``
मम्मी रमेश रै सिर ऊपरां हाथ फेरै ही।